Labels

Blogumulus by Roy Tanck and Amanda Fazani

मेरे बारे में

My photo
रायपुर, छत्तीसगढ, India
सहीं या गलत बस नजरिये का फर्क है जो एक के लिए गलत है वो दूसरे के लिए सहीं हो सकती है और दो परस्पर विरोधी बातें भी एक ही समय पर सही हो सकती है । इसी विरोधाभास का नाम है दुनिया ।

सहचर

लेख ईमेल से

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

पाठक कहाँ कहाँ से

Saturday, April 3, 2010

कुछ बातें जो चुभती है

ऐसी बहुत सी बातें है जो चुभती है इन परस्पर विरोधी बातों को कहने का शायद यही एक मंच है मेरे पास

6 comments:

RAJ SINHsaid...

हिन्दी ब्लॉगजगत में आपका स्वागत है !अनेक शुभकामनायें .

वर्ड वेरिफिकेसन हटा दें .इसका कोई फायदा नहीं सिर्फ तिप्पनेकारों को असुविधा होगी .

kshamasaid...

Tahe dilse swagat hai...

shamasaid...

Anek shubhkamnaon sahit swagat hai..

saurabhsaid...

swagat hai..

अजय कुमारsaid...

हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

संगीता पुरीsaid...

इस नए चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

Post a Comment